ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन - Aisi Lagi Lagan Meera Ho Gayi Magan

ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन

है आँख वो जो श्याम का दर्शन किया करे,
है शीश जो प्रभु चरण में वंदन किया करे। 
बेकार वो मुख है जो रहे व्यर्थ बातों में,
मुख है वोजो हरीनाम का सुमिरन किया करे॥ 
हीरेमोती से नहीं शोभा है हाथकी। 
है हाथ जो भगवान् का पूजन किया करे॥ 
मर के भी अमरनाम है उस जीवका जग में। 
प्रभु प्रेम में बलिदान जो जीवन किया करे॥ 

ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन,
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी॥ 

महलों में पली बन के जोगन चली।  
मीरा रानी दीवानी कहाने लगी॥ 
ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन। 
वो तो गली गली गली  हरी गुण गाने लगी॥ 

कोई रोके नहीं कोई टोके नही 
मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी। 
बैठी संतो के संग रंगी मोहन के रंग 
मीरा प्रेमी प्रीतम को मनाने लगी। 
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी॥ 
ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन। 

राणा ने विष दिया मानो अमृत पिया, 
मीरा सागर में सरिता समाने लगी। 
दुःख लाखों सहे मुख से गोविन्द कहे, 
मीरा गोविन्द गोपाल गाने लगी। 
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी॥ 

ऐसी लागी लगन मीरा हो गयी मगन। 
वो तो गली गली हरी गुण गाने लगी॥ 

Aisi Lagi Lagan Meera Ho Gayi Magan Anup Jalota Meera Bai Ke Bhajan Lyrics In Hindi 

Comments

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics