Posts

Showing posts from February, 2020

दर्द किसको दिखाऊ कन्हैया कोई हमदर्द तुमसा नहीं है कृष्ण भजन

Image
दर्द किसको दिखाऊ कन्हैया कोई हमदर्द तुमसा नहीं है दर्द किसको दिखाऊ कन्हैया कोई हमदर्द तुमसा नहीं है दर्द किसको दिखाऊ कन्हैया कोई हमदर्द तुमसा नहीं है दुनिया वाले नमक है छिडकते कोई मरहम लगाता नही है किसको बैरी कहू किसको अपना झूठे वादे है सारे ये सपना अब तो कहने में आती शरम है रिश्ते नाते ये सारे भरम है देख खुशिया मेरी जिंदगी की रास अपनों को आती नही है ठोकरों पे है ठोकर खाया जब भी दिल दुसरो से लगाया हर कदम पे  है सबने गिराया सबने स्वार्थ का रिश्ता निभाया तुझसे नैना लडाना कन्हैया दुनिया वालो को भाता नही है ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्ति गीत राम जी के भजन फ़िल्मी तर्ज पर भजन हनुमान जी के भजन बधाई गीत आरति संग्रह चालीसा संग्रह

ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान - O Kanha Ab To Murali Ki Madhur Suna Do Taan

Image
ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान मै हु तेरी प्रेम दीवानी मुझको तू पहचान मधुर सुना दो तान ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान जब से मैंने तुझ संग अपने नैना जोड़ लिए है क्या मैया क्या बाबुल सबसे रिश्ते तोड़ दिए है अपने मिलन को व्याकुल है ये कब से मेरे प्राण मधुर सुना दो तान ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान सागर से भी गहरे मेरे प्रेम की गहराई लोकलाज कुल की मर्यादा सज कर मै आई मेरी प्रीत से ये निर्मोही अब ना बनो अंजान मधुर सुना दो तान ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान मै हु तेरी प्रेम दीवानी मुझको तू पहचान मधुर सुना दो तान ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान भजन - ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान गायिका- सृष्टि लक्ष्मी ठाकुर गायक- सनोज सागर जी तबला - वादन रामध्यान गुप्ता जी ओ कान्हा अब तो मुरली की मधुर सुना दो तान कृष्ण  भजन को  सृष्टि लक्ष्मी ठाकुर ने गाया है कृष्णा भगवन के इस भजन में  रामध्यान गुप्ता ने बहुत की शानदार तबला वादन किया है |  O Kanha Ab

शिव शंकर औघड दानी बम भोला भोलेनाथ भजन - Shiv Shankar Aaughad Dani Bam Bhola ShivJi Ka Bhajan

Image
शिव शंकर औघड दानी बम भोला भोलेनाथ भजन मस्त मस्त मस्त मस्त मौला मस्त मस्त मस्त मस्त मौला भांग पीकर रहते है हरदम मस्तमौला शिव शंकर औघड दानी बम भोला भांग पीकर रहते है हरदम मस्तमौला हो रास आती नही इनको तो संग पलंग रहते भस्मी रमाये  हर क्षण अंग अंग धारण करते वाघम्बर ओढ लेते मृगछाला शम्भु देवो के देव बड़े मतवाला भांग पीकर रहते है हरदम मस्तमौला शिव शंकर औघड दानी बम भोला बम बम भोले बम भोले बम बम भोले इनको भाता कभी भी नही  खोवा  मलाई इनकी चाहत ना होती कभी हाईफाई देते सबको भंडारे इनकी महिमा है न्यारी इनके नामो की दुनिया जपती है माला भांग पीकर रहते है हरदम मस्तमौला शिव शंकर औघड दानी बम भोला भजन -  शिव शंकर औघड दानी बम भोला स्वर--डिम्पल भूमि गीत--सुनील पाठक तबला- रामध्यान गुप्ता संयोजक- अरुण कुमार शिव शंकर औघड दानी बम भोला भोलेनाथ का नया भजन को  डिम्पल भूमि ने गाया है शिव जी यह भजन सुनील पाठक द्वारा लिखा गया है इस भजन में  रामध्यान गुप्ता ने बहुत की शानदार तबला वादन किया है |  Shiv Shankar Aaughad Dani Bam Bhola Shiv Ji New Bhajan L

डमरू बजाया भोलेनाथ ने भजन लिरिक्स - Damru Bajaya Bholenath Ne Bhajan Lyrics

Image
डमरू बजाया भोलेनाथ ने भजन लिरिक्स मै हिमाचल की बेटी  मेरा भोला बसे काशी सारी उम्र तेरी सेवा करुँगी बनकर तेरी दासी शम्भू शिव शिव शिव शिव शम्भू शम्भू शिव शिव शिव शिव शम्भू ऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया बोल बम बोल बम ऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया ऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया डमरू को  सुनकर जी  कान्हाजी आये कान्हाजी आये संग में राधा भी  आये वहां सखियों का मन भी मगन हो गया सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया ऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया डमरू को सुनकर जी गणपत चले गणपत चले  संग कार्तिक चले माँ अम्बे मन भी मगन हो गया सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया ऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया डमरू को सुनकर जी राम जी आये राम जी आये संग में लक्ष्मणजी आये मैया सीता का मन भी मगन हो गया सारा कैलाश पर्वत मगन हो गया ऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने सारा

शिव शंकर को जिसने पूजा शिव भजन लिरिक्स - Shiv Shankar Ko Jisne Pooja Shiv Bhajan Lyrics

Image
शिव शंकर को जिसने पूजा शिव भजन लिरिक्स  शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ अंत:काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ भोले शंकर की पूजा करो ध्यान चरणों में इसके धरो शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ हर हर महादेव शिव शम्भू हर हर महादेव शिव शम्भू डमरूवाला है जग में दयालु बड़ा दीनदुखियो का दाता जगत का पिता सब पे करता है यह भोला शंकर दया सब को देता है ये आसरा इन पावन चरणों में अर्पण आकर जो एक बार हुआ अंत: काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ ओम नमः शिवाय नमो हरी ओम नमः शिवाय नमो हर हर महादेव शिव शम्भू हर हर महादेव शिव शम्भू नाम ऊँचा है सबसे महादेव का वंदना इसकी करते हैं सब देवता इसकी पूजा से वरदान पाते हैं सब शक्ति का दान पाते हैं सब नाग , असुर , प्राणी सब पर ही भोले का उपकार हुआ अंत काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ अंत:काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ भोले शंकर की पूजा करो ध्यान

मन मेरा मंदिर शिव मेरी पूजा शिव भजन - Man Mera Mandir Shiv Meri Puja Shiv Bhajan

Image
मन मेरा मंदिर शिव मेरी पूजा  ओम नमः शिवाय ओम नमः शिवाय ओम नमः शिवाय ओम नमः शिवाय सत्य है ईश्वर शिव है जीवन सुन्दर ये संसार है तीनों लोक है तुझमे तेरी माया अपरम्पार है ओम नमः शिवाय नमो ओम नमः शिवाय नमो मन मेरा मंदिर शिव मेरी पूजा  शिव से बड़ा नहीं कोई दूजा बोल सत्यम शिवम बोल तू सुन्दरम मन मेरे शिव की महिमा के गुण गाये जा  पार्वती जब सीता बन कर  जय श्री राम के सम्मुख आई  राम ने उनको माता कहकर  शिव शंकर की महिमा गायी शिव भक्ति में सब कुछ सूझा  शिव से बड़ा नहीं कोई दूजा बोल सत्यम शिवम बोल तू सुन्दरम  मन मेरे शिव की महिमा के गुण गाये जा तेरी जटा से निकली गंगा  और गंगा ने भीष्म दिया है  तेरे भक्तों की शक्ति ने  सारे जगत को जीत लिया है तुझको सब देवोँ ने पूजा  शिव से बड़ा नहीं कोई दूजा बोल सत्यम शिवम बोल तू सुन्दरम  मन मेरे शिव की महिमा के गुण गाये जा मन मेरे मंदिर शिव मेरी पूजा  शिव से बड़ा नहीं कोई दूजा बोल सत्यम शिवम बोल तू सुन्दरम  मन मेरे शिव की महिमा के गुण गाये जा ओम नमः शिवाय नमो ओम नमः शिवाय नमो  …. S