Posts

Showing posts with the label गुरुदेव भजन

सुन इंसान रे लिरिक्स - Sun Insan Re Lyrics

Image
सुन इंसान रे लिरिक्स सुन इंसान रे विधि का विधान रे दो दिन की जान रे सच है ये जान रे जो आएगा वो जाएगा जो आएगा वो जाएगा छोड़ कर ना शरारत तू बात मान ले ये है रे अकारक तू बात मान ले बड़ी मुश्किल से मानुस तन पाया तूने कर ले प्रभु की इबादत तू बात मान ले हो जा सावधान रे ले राम नाम रे यही साथ जाएगा मात के अभिमान रे   जो आएगा वो जाएगा जो आएगा वो जाएगा  सुन इन्सान रे...... वो सारे धर्मो का बन्दे ये सन्देश है ज्ञानी ध्यानी की वाणी का उपदेश है प्रेम भाव से रहना तू अब सिख ले मिल सकेगा न ऐसा तुझे भेष है ना अतीत मान रे ना भविष्य जान रे तेरे हक़ में तेरा है सिर्फ वर्तमान रे जो आएगा वो जाएगा जो आएगा वो जाएगा  सुन इन्सान रे...... झूटी दौलत पे अपनी क्यु मगरूर है होता इंसानियत से तू क्यू दूर रे तेरा शेतान का तेरे मन में बसा तूने देखा न रब का अजब नूर रे छोड़ आन बाण रे छोड़ अपनी शान रे बाली से क्या सुनाये एजाज का बयान रे जो आएगा वो जाएगा जो आएगा वो जाएगा  सुन इन्सान रे...... सुन इंसान रे लिरिक्स - Sun Insan Re Lyrics  Bhakti Bhajan Song Details   Song  :- Sun Insan Re   Singer:- Riza Khan - Bali Thakare   Lyric 

आज के दीवानों को ना भजन चाहिए लिरिक्स - Aaj Ke DIwano Ko Na Bhajan Chahiye Lyrics

आज के दीवानों को ना भजन चाहिए लिरिक्स आज के दीवानों को ना भजन चाहिए  ना सत्संग चाहिए उनको तो केवल मोबाईल चाहिए फैशन में डूबा है सारा जहां फैशन लुभाती हैं सबको यहां  पैसा और शान का ही चस्का चाहिए आज के दीवानों को........ धन के नशे में रहते हैं चूर साधु और संतो से रहते हैं दूर दारू और मोबाईल का ही खेल चाहिए आज के दीवानों को....... फेसबुक और व्हाट्स एप में रहते है चूर रिश्ते और नातो से रहते है दूर इनको तो नेट का बेलेंस चाहिए आज के दीवानों को......   आज के दीवानों को ना भजन चाहिए  ना सत्संग चाहिए उनको तो केवल मोबाईल चाहिए आज के दीवानों को ना भजन चाहिए लिरिक्स  Aaj Ke DIwano Ko Na Bhajan Chahiye Lyrics ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्ति गीत राम जी के भजन फ़िल्मी तर्ज पर भजन हनुमान जी के भजन बधाई गीत आरति संग्रह चालीसा संग्रह

किसी के काम जो आए उसे इंसान कहते हैं लिरिक्स - Kisi Ke Kaam Jo Aaye Use Insaan Kahate Hai Lyrics

किसी के काम जो आए उसे इंसान कहते हैं लिरिक्स किसी के काम जो आए  उसे इंसान कहते हैं पराया दर्द अपनाए  उसे इंसान कहते हैं कभी धनवान है कितना  कभी इंसान निर्धन है कभी सुख है कभी दुख है  उसी का नाम जीवन है जो मुश्किल में ना घबराए  उसे इंसान कहते यह दुनिया एक उलझन है  कहीं धोखा कहीं ठोकर कोई हंस हंस के जीता है  कोई सहता है रो-रो कर जो गिर कर फिर संभल जाये उसे इंसान कहते है कहीं सद्गुण हंसाते हैं  कहीं भूले सताते हैं भला है भूल ना होना  कभी वह हो भी जाती है जो करते हैं ठीक गलती को  उसे इंसान कहते हैं किसी के काम जो आए उसे इंसान कहते हैं भजन लिरिक्स Kisi Ke Kaam Jo Aaye Use Insaan Kahate Hai Bhajan Lyrics ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्ति गीत राम जी के भजन फ़िल्मी तर्ज पर भजन हनुमान जी के भजन बधाई गीत आरति संग्रह चालीसा संग्रह

भला किसी का कर ना सको तो लिरिक्स - Bhala Kisi ka Kar Na Sako To Lyrics

भला किसी का कर ना सको तो  लिरिक्स भला किसी का कर ना सको तो  बुरा किसी का मत करना पुष्प नहीं बन सकते तो  कांटे बनकर मत रहना बन ना सको भगवान अगर तुम  कम से कम इंसान नहीं कभी शैतान बनो तुम  नहीं कभी हैवान बनो सदाचार अपना ना सको तो  पापों में पग मत रखना पुष्प नहीं बन सकते तो  तुम कांटे बनकर मत रहना घर ना किसी का बसा सको तो  झोपड़िया ना जला देना मरहम पट्टी कर ना सको तो  खार नमक ना लगा देना दीपक बनकर जलना सको तो  अंधियारा भी मत करना पुष्प नहीं बन सकते तो तुम  कांटे बनकर मत रहना सत्य वचन ना बोल सको तो  झूठ कभी भी मत बोलो प्यास बुझा ना सको किसी की   जहर पिलाते भी डरना राम नाम की माला लेकर  सुबह श्याम भजन करना पुष्प नहीं बन सकते तो तुम  कांटे बनकर मत रहना   Bhala Kisi ka Kar Na Sako To Lyrics ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्ति गीत राम जी के भजन फ़िल्मी तर्ज पर भजन हनुमान जी के भजन बधाई गीत आरति संग्रह चालीसा संग्रह

प्रभु हम पे कृपा करना लिरिक्स - Prabhu Hum Pe Kripa Karna Lyrics

प्रभु हम पे कृपा करना लिरिक्स प्रभु हम पे कृपा करना प्रभु हमपे दया करना वैकुंठ तो यही है हृदय में बसा रखना तुम ही ने राग बनकर वीणा के तार बनकर प्रगटो में नाथ मेरे हृदय में प्यार बनके हरे रागिनी की धुन पे स्वर बनके उठा करना प्रभु हम पे कृपा करना......... नाचेंगे मोर बनके हे श्याम तेरे द्वारे घनश्याम छाए रखना बंन करके मेघ सारे अमृत की धार बंन कर प्यासो पर दया करना प्रभु हम पे कृपा करना......... तेरी वीयोग में हम दिन रात है उदासी अपनी शरण में ले लो हे नाथ ब्रज के वासी तुम सोहम शब्द बनकर प्राणों में रामा करना प्रभु हम पे कृपा करना......... ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्ति गीत राम जी के भजन फ़िल्मी तर्ज पर भजन हनुमान जी के भजन बधाई गीत आरति संग्रह चालीसा संग्रह

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने लिरिक्स - Racha Hai shrishti ko jis prabhu ne Lyrics

Image
रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने लिरिक्स रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है, जो पेड़ हमने लगाया पहले, उसी का फल हम अब पा रहे है, रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है।। इसी धरा से शरीर पाए, इसी धरा में फिर सब समाए, है सत्य नियम यही धरा का, एक आ रहे है एक जा रहे है, रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है।। जिन्होने भेजा जगत में जाना, तय कर दिया लौट के फिर से आना, जो भेजने वाले है यहाँ पे, वही तो वापस बुला रहे है, रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है।। बैठे है जो धान की बालियो में, समाए मेहंदी की लालियो में, हर डाल हर पत्ते में समाकर, गुल रंग बिरंगे खिला रहे है, रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है।। रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है, जो पेड़ हमने लगाया पहले, उसी का फल हम अब पा रहे है, रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है।। रचाए सृष्टि को जिस प्रभु ने वही ये सृष्टि चला रहे हैं लिरिक्स  Rachae shrishti ko jis prabhu ne wahi ye shrishti chala rahe ha

मेरे मालिक के दरबार में सब लोगो का खाता लिरिक्स -Mere Malik Ke Darbar me Sab Logo Ka Khata

Image
मेरे मालिक के दरबार में सब लोगो का खाता लिरिक्स मेरे मालिक के दरबार में, सब लोगो का खाता जितना जिसके  भाग्य में होता , वो उतना ही पाता मेरे मालिक के दरबार में.... क्या साधू क्या संत गृहस्थी, क्या राजा क्या रानी, प्रभु की पुस्तक में लिखी है, सब की कर्म कहानी, वही सभी के जमा खरच का, सही हिसाब लगाता,  मेरे मालिक के दरबार में ...  बड़े कड़े कानून प्रभु के, बड़ी कड़ी मर्यादा, किसी को कौड़ी कम नही देता, किसी को दमड़ी ज्यादा इसलिए तो दुनिया में ये  जगत सेठ कहलाता,  मेरे मालिक के दरबार में ... करते हैं फ़ैसला सभी का  प्रभु आसन पर  डट के, इनका फैसला कभी ना बदले, लाख कोई सर पटके, समझदार तो चुप रहता हैं, मूरख़ शोर मचाता,  मेरे मालिक के दरबार में.... SINGER - ANIL NAGORI ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्ति गीत राम जी के भजन फ़िल्मी तर्ज पर भजन हनुमान जी के भजन बधाई गीत आरति संग्रह चालीसा संग्रह