Posts

Showing posts from August, 2019

हरी नाम नही होता तो भक्तो का क्या होता - Hari Naam Nahi Hota To Bhakto ka Kya Hota

हरी नाम नही होते तो भक्तो का क्या होता  शायरी  भगवान की अदालत में वकालत नही होती  अगर एक बार सजा हो जाये तो जमानत नही होती   ** हरी भजन  हरी नाम नही होता तो भक्तो का क्या होता हर एक समस्या का समाधान कहा होता   पंडित भी हजारो है विद्वान भी देखे है  लेकिन रावन के जैसा शिव भक्त कहा होता  हरी नाम नही होता तो भक्तो का क्या होता  दानी भी हजारो है दान भी करते है  कन्या दान के जैसा कोई दान कहा होता  हरी नाम नही होता तो भक्तो का क्या होता  मेहमान हजारो है मेहमानी भी होती है  सुदामा के जैसा मेहमान कहा होता  हरी नाम नही होता तो भक्तो का क्या होता   प्रेमी भी हजारो है और प्यार भी करते है  लेकिन मीरा के जैसा प्रेम कहा होता  हरी नाम नही होता तो भक्तो का क्या होता  गुरुदेव के भजन यहा पर देख सकते है मोहे लागी लगन गुरु चरणन की भजन चली जा रही है उमर धीरे धीरे भजन हरयाणवी गाना माटी में मिले माटी पानी में पानी अरे अभिमानी पाप की नगरिया में पुण्य कब कमाओगे जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे   गुरूदेव की कुटिया को मैंने फूलो से सजाया है हे गुरुदेव

जगत में कोई ना परमानेंट भजन - Jagat Me Koi Na Parmanent Bhajan

Image
Jagat Me Koi Na Parmanent जगत में कोई ना परमानेंट  जगत में कोई ना परमानेंट  तेल चमेली चन्दन साबुन  चाहे लगालो सेंट जगत में कोई ना परमानेंट  आवागमन लगी दुनिया में  जगत है रेस्टोरेंट   जगत में कोई ना परमानेंट  अंत समय में उड़ जायेंगे  तेरे तम्बू टेंट  जगत में कोई ना परमानेंट  मन में नाम प्रभु का राखो  चाहे धोती पहनो या पैंट  जगत में कोई ना परमानेंट  हरिद्वार चाहे मथुरा काशी  घुमो दिल्ली केंट  जगत में कोई ना परमानेंट  साधू संत की संगत करलो  ये सच्ची गवरमेंट  जगत में कोई ना परमानेंट  गुरुदेव के भजन यहा पर देख सकते है मोहे लागी लगन गुरु चरणन की भजन चली जा रही है उमर धीरे धीरे भजन हरयाणवी गाना माटी में मिले माटी पानी में पानी अरे अभिमानी पाप की नगरिया में पुण्य कब कमाओगे जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे   गुरूदेव की कुटिया को मैंने फूलो से सजाया है हे गुरुदेव मेरे दिल में आओ भजन   खाली हाथ आया है खाली हाथ जायेगा हरी नाम नही होता तो भक्तो का क्या होता अपना मुझे बनाके चरणों से मुझे लगाके भजन आदमी मुसाफिर है आता है जाता ह

कन्हैया रे तेरे बिना भी क्या जीना - Kanhaiya Re Tere Bina Bhi Kya Jina

कन्हैया रे तेरे बिना भी क्या जीना कन्हैया रे तेरे बिना भी क्या जीना  ये नाता टूटे ना क्यों हमसे रूठे ना  तेरे बिना ये गोकुल सुना   तेरे बिना भी क्या जीना  बचपन से तूने प्रीत लगायी  प्रीत लगाके कान्हा क्यों बिसराई  क्यों हम से रूठे ना क्यों हम से बोले ना  तेरे बिना ये गोकुल सुना  तेरे बिना भी क्या जीना ग्वाल पुकारे गौये निहारे जमुना तट पे रस्ता निहारे गोकुल की गलियों में मधुबन की गलियों में  तेरे बिना ये गोकुल सुना  तेरे बिना भी क्या जीना कन्हैया रे तेरे बिना भी क्या जीना  ये नाता टूटे ना क्यों हमसे रूठे ना  तेरे बिना ये गोकुल सुना  कन्हैया रे तेरे बिना भी क्या जीना  Kanhaiya Re Tere Bina Bhi Kya Jina lyrics ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्ति गीत राम जी के भजन फ़िल्मी तर्ज पर भजन हनुमान जी के भजन बधाई गीत आरति संग्रह चालीसा संग्रह

तेरी गलियों का हु आशिक तू एक नगीना है भजन लिरिक्स - Teri Galiyon Ka Hu Aashiq Tu Aik Nagina Hai bhajan Lyrics

Image
तेरी गलियों का हु आशिक तू एक नगीना है  भजन लिरिक्स   तेरी गलियों का हु आशिक तू एक नगीना है,  तेरी नजरो से ये मुझको ये जाम पीना है,  तेरी गलियों का  हु आशिक तू एक नगीना है ,  तेरे बिना कोई दूसरा नही मेरा  छोडू नही कसके पकड़ा है दामन तेरा तू ही ज्ञाता तुही ध्याता तुही विधाता है  तेरी गलियों का हु आशिक तू एक नगीना है,  मेरे हमदम मेरे साथी मेरे साथी हमदम तेरी ख़ुशी मेरी ख़ुशी तेरा गम मेरा गम  तू लहू है तू जान है तुही धडकन मेरी  तेरी गलियों का हु आशिक तू एक नगीना है, दिया है दर्द जो तुमने तुही दवा देना तुम रहना साथ मेरे साया बनकर  तुही दरिया तुही साहिल तूही सफीना है  तेरी गलियों का हु आशिक तू एक नगीना है,  Teri Galiyon Ka Hu Aashiq Tu Aik Nagina Hai Lyrics तेरी गलियों का हु आशिक तू एक नगीना है  भजन लिरिक्स Singer - Shri Rasika Pagal ji Maharaj  ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्णाच्या गवळणी मराठी शिव जी के भजन गुरुदेव के भजन माता रानी के भजन दादाजी धुनिवाले के भजन साईं बाबा के भजन देश भक्

जय देव जय देव जय मंगलमूर्ती गणेश जी की आरती - Jai Dev Jai Dev Jai MangalMurti Ganesh ji Ki Aarti

Image
जय देव जय देव जय मंगलमूर्ती गणेश जी की आरती सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची नुरवी पूर्वी प्रेम कृपा जयाची सर्वांगी सुंदर उटी शेंदुराची कंठी झरके माल मुक्ताफळाची || १ ||  जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ती दर्शनमात्रेमन कामनापुरती रत्नखचित फरा तूज गौरीकुमरा चंदनाची उटी कुंकुमकेशरा हिरे जडित मुकुट शोभतोबरा रुणझुणती नुपुरे चरणी घागरिया || 2 ||  जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ती दर्शनमात्रेमन कामनापुरती लंबोदर पितांबर फनी वरवंदना सरळ सोंड वक्रतुंड त्रिनयना दास रामाचा वाट पाहे सदना संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुरवंदना || ३ || जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ती दर्शनमात्रेमन कामनापुरती आरती संग्रह  गणेश जी की आरती जय गणेश जय गणेश देवा  Ganesh ji ki Aarti jai Ganesh Jai Ganesh Deva  हनुमान जी की आरती आरती कीजै हनुमान लला की  Hanuman ji Ki aarti Aarti Kije Hanuman lala Ki  दुर्गा माता की आरती जय अम्बे गौरी  Durga Mata Ki Aarti Jai Ambe Gauri  शिव जी की आरती जय शिव ओंकारा  Shiv ji Ki Aarti Jai Shiv Omkara कृष्ण भगवान की आरती आरती कुंजबिहारी

गौरी के नंदा गजानंद गणेश वंदना - Gauri Ke Nanda Gajanand ,Ganesh Vandana

Image
 गौरी के नंदा गजानंद  गणेश वंदना गौरी के नंदा गजानंद गौरी के नंदा  म्हारा विघ्न हरो  गणराज गजानंद गौरी के नंदा  गौरी के नंदा गजानंद पिता तुम्हारे है शिव शंकर मस्तक पर चंदा  माता तुम्हारी पार्वती मा ध्यावे जगत बन्दा  गौरी के नंदा गजानंद मूषक वाहन सुंड सुन्डाला फरसा हाथ ले धार  गल वैजन्ती माल बिराजे चढ़े पुष्प गन्धा गौरी के नंदा गजानंद   जो नर तुझको नही सुमरता उसका भाग्य मंदा  जो नर तेरी करे सेवना उसका चले धंधा गौरी के नंदा गजानंद  विघ्न हरण मंगल करण विध्या वर देता  कहता  भक्त राम भजन से कटे पाप फंदा  म्हारा विघ्न हरो... गौरी के नंदा गजानंद गणेश वंदना आप यहाँ पर देख सकते है   आओ अंगना पधारो श्री गणेशजी तेरी जय हो गणेश गणेश जी का भजन   घर में पधारो गजानन जी" मेरे घर में पधारो सुखकर्ता की दुःख हर्ता विध्न विनाशक गणराया प्रथम तुला वंदितो गणेश वंदना Gauri Ke Nanda Lyrics Gauri Ke Nanda Gajanand ,Ganesh Vandana ऐसे ही सुन्दर भजन आप यहां पर देख सखते है गणेश जी के भजन विट्ठलाचे अभंग मराठी राधा कृष्ण के भजन कृष्ण