मेरी री सास के पांच पुतर थे लिरिक्स - Meri Ri Saas Ke Paach Putra The Lyrics

मेरी री सास के पांच पुतर थे लिरिक्स 


मेरी री सास के पांच पुतर थे 
दो देवर दो जेठ सुनियो 
मेरी री करम में बावलिया लिख्या था 
वो भी गया परदेस सुनियो 

बारा री  बरस में बावलिया घर आया 
बरसे मुसलधारधार सुनियो 
मेरा तो ल्याया घूम घाघरा 
अपनी ल्याया पतलून सुनियो 
मेरी री सास के पांच पुतर थे 
दो देवर दो जेठ सुनियो 

सास भी सो गयी ससुरा भी सो गया
चुबारे बिछा लेई खाट सुनियो 
मै भी सो गी बावलिया भी सो गया 
घर में बड गए चोर सुनियो 
मेरी री सास के पांच पुतर थे 
दो देवर दो जेठ सुनियो 

मेरा तो ले गए घूम घाघरा 
बावलिये की ले गए पतलून सुनियो 
मै तो रोई सुबक सुबक कै 
बावलिये ने मारी किलकार सुनियो 
मेरी री सास के पांच पुतर थे 
दो देवर दो जेठ सुनियो 

मन्ने तो जगाई अपनी देवोरानी जिठानी 
बावलिये नै सारा गाम सुनियो 
मेरी री सास के पांच पुतर थे 
दो देवर दो जेठ सुनियो

मेरी री सास के पांच पुतर थे हरयाणवी लोक गीत लिरिक्स 
Meri Ri Saas Ke Paach Putra The Haryanvi Folk Song Lyrics
New And Latest Haryanvi Folk Song Lyrics In Hindi

Song Details
Title - Meri Ri Saas ke paach putra the
Singer -  Nikita
Music - Rinku Gujral
Label - Fine Digital Video


Comments

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics