राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में भजन लिरिक्स- Ram Jaisa Nagina Nahi Sare jag Ki Bajariya Me Bhajan Lyrics

राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में भजन लिरिक्स


राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में ,
नीलमणि ही जड़ाऊँगी अपने मन की मुंदरियाँ में 

राम का नाम प्यारा लगे ,रसना पे बिठाऊँगी मैं,
मृदु मूरत बसाऊँगी नैनों की पुतरिया में 
राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में

हैं झूठे सभी रिश्ते और झूठे सभी नाते,
दूजा रंग न चढ़ाऊँगी अपनी श्यामल चदरिया में 
राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में

जल्दी से जतन करके राघव को रिझाना है ,
कुछ दिन ही तो रहना है काया की कोठरिया में
राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में

राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में ,
नीलमणि ही जड़ाऊँगी अपने मन की मुंदरियाँ में 
राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में

राम जैसा नगीना नहीं सारे जग की बजरिया में भजन लिरिक्स
Ram Jaisa Nagina Nahi Sare jag Ki Bajariya Me Bhajan Lyrics
New Ram Bhajan Song  Lyrics in Hindi 

Ram Bhajan: Ram Jaisa Nagina Nahin 
Singer: Rohit Paliwal 
Lyrics: Traditional

Comments

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics