अजब है भोले नाथ ये दरबार तुम्हारा लिरिक्स - Ajab Hai Bhole Natha Ye Darbar Tumhara Lyrics

अजब है भोले नाथ ये दरबार तुम्हारा  लिरिक्स

अजब है भोले नाथ ये दरबार तुम्हारा 
दरबार तुम्हारा 
भूत प्रेत नित करे चाकरी सबका यहा गुजारा 
अजब है भोले नाथ ये दरबार तुम्हारा 
दरबार तुम्हारा 

बाघ बैल को हरदम एक जगह पे आके  
कभी ना एक दूजे को बुरी नज़र से ताके 
कहीं और नहीं देखा हमने ऐसा गजब नज़रा
अजब है भोले नाथ ये दरबार तुम्हारा 
दरबार तुम्हारा 

 गणपति राखे चूहा कभी सर्प नहीं छूआ 
भोले सर्प लटकाये कार्तिक मोर नचाये
आज का काम नहीं है तेरा अनुशाषित  है सारा  
अजब है भोले नाथ ये दरबार तुम्हारा 
दरबार तुम्हारा 


अजब है भोले नाथ ये दरबार तुम्हारा  लिरिक्स 
Ajab Hai Bhole Natha Ye Darbar Tumhara Lyrics
Shiv Bhajan by Dhiraj kant

Comments

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics