भोले शंकर दानी तू जग का विधाता है लिरिक्स - Bhole Shankar Dani Tu Jag Ka Vidhata Hai Lyrics

भोले शंकर दानी तू जग का विधाता है लिरिक्स

भोले शंकर दानी,तू जग का विधाता है,
अपने भक्तो का तू,अपने भक्तो का तू,
बस दीन दाता है,
भोलें शंकर दानी,तू जग का विधाता है।।

जब दुनिया सोती है, तब तू ही जगता है,
जग का पालन पोषण, बस भोला करता है,
भक्तों के कष्टों को,भक्तों के कष्टों को,
तू दूर भगाता है,
भोलें शंकर दानी,तू जग का विधाता है।।

कोई दूध से नहलाए,जल कोई चढ़ा जाए,
कोई उख का जल सींचे,कोई भंग पीला जाए,
कोई आक धतूरे का, कोई आक धतूरे का,
तुझे भोग लगाता है,
भोलें शंकर दानी,तू जग का विधाता है।।

किस्मत ही बदल डाले,जो नाम जपे तेरा,
आफत से तू टाले,जो ध्यान धरे तेरा,
चरणों में ‘हर्ष’ तेरे,चरणों में ‘हर्ष’ तेरे,
ये शीश झुकाता है,
भोलें शंकर दानी,तू जग का विधाता है।।

भोले शंकर दानी,तू जग का विधाता है,
अपने भक्तो का तू,अपने भक्तो का तू,
बस दीन दाता है,
भोलें शंकर दानी,तू जग का विधाता है।।,

भोले शंकर दानी तू जग का विधाता है लिरिक्स 
Bhole Shankar Dani Tu Jag Ka Vidhata Hai Lyrics

ऐसे ही सुन्दर नये भक्ति भजन के लिरिक्स आप यहां पर देख सखते है

Comments

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics