मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो लिरिक्स - Maiya Mori Mai Nahi Makhan Khayo Lyrics

मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो  लिरिक्स

मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो 

भोर भयो गैयन के पाछे, 
मधुवन मोहिं पठायो 
चार पहर बंसीबट भटक्यो, 
साँझ परे घर आयो ॥
मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो 

मैं बालक बहिंयन को छोटो, 
छींको किहि बिधि पायो ।
ग्वाल बाल सब बैर परे हैं, 
बरबस मुख लपटायो ॥
मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो 

तू जननी मन की अति भोरी, 
इनके कहे पतिआयो ।
जिय तेरे कछु भेद उपजि है, 
जानि परायो जायो ॥
मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो 

यह लै अपनी लकुटि कमरिया, 
बहुतहिं नाच नचायो ।
'सूरदास' तब बिहँसि जसोदा, 
लै उर कंठ लगायो ॥
मैया मोरी मैं नहिं माखन खायो 

Krishan Bhagwan Ke bhakti Bhajan Song Details

 Song  :- Maiya Mori Mai Nahi Makhan Khayo

 Singer:- 

 Lyrics  :- 

टिप्पणियाँ

नये भजन आप यहाँ से देख सकते है

ज़्यादा दिखाएं

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

माता रानी के भजन लिरिक्स - Mata Rani Bhajan List - नवरात्रि स्पेशल देवी भजन लिस्ट

शिव जी के भजन लिरिक्स - Shiv Ji ke Bhajan lyrics ( Bhole Nath ke Bhajan List )

गणेश जी के भजन लिरिक्स - Ganesh Ji ke Bhajan Lyrics ( Ganpati Ji Ke bhajan lyrics ) Bhajan List