मन में बसाकर तेरी मूर्ति उतारू में गिरधर तेरी आरती लिरिक्स

मन में बसाकर तेरी मूर्ति उतारू में गिरधर तेरी आरती लिरिक्स 


मन में बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती॥

करुणा करो कष्ट हरो ज्ञान दो भगवन,
भव में फसी नाव मेरी तार दो भगवन,
दर्द की दवा तुम्हरे पास है,
जिंदगी दया की है भीख मांगती,
मन में बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती॥

मांगु तुझसे क्या मै यही सोचु  भगवन,
जिंदगी जब तेरे नाम करदी अर्पण,
सब कुछ तेरा कुछ नहीं मेरा,
चिंता है तुझको प्रभु संसार की,
मन में बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती॥

वेद तेरी महिमा गाये संत करे ध्यान,
नारद गुणगान करे छेड़े वीणा तान,
भक्त तेरे द्वार करते है पुकार,
दास व्यास तेरी गाये आरती,
मन में बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती॥

मन में बसाकर तेरी मूर्ति उतारू में गिरधर तेरी आरती लिरिक्स 
Man Me basakar Teri Murti Utaru Mai Girdhar Teri Aarti Lyrics
Krishna Bhagwan Ki Aarti
Singer- श्री अनिरुद्धाचार्य जी महाराज

Comments

  1. Fantastic ........me daily practice krti hu...... mind-blowing 🙏jai ho....🥰🙏.

    ReplyDelete
  2. goood one. it would be great if you also give the post-bhajan mantras sung.

    ReplyDelete
  3. अद्भुत मन को तृप्त करने वाला भजन जिन्होंने इसकी रचना की उन्हें विनम्र प्रणाम l

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics