पता नहीं किस रूप में आकर नारायण मिल जाएगा लिरिक्स - Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayega Lyrics

पता नहीं किस रूप में आकर नारायण मिल जाएगा लिरिक्स

समय हाथ से निकल गया तो 
सिर धुन धुन पछतायेगा 
निर्मल मन के दर्पण में वह 
राम के दर्शन पायेगा 

राम नाम के साबुन से जो 
मन का मेल छुडायेगा 
निर्मल मन के दर्पण में वह 
राम के दर्शन पायेगा 

झूठ कपट निंदा को त्यागो 
हर प्राणी से प्यार करो 
घर पर आये अतिथि तो 
यथा शक्ति सत्कार करो 

पता नहीं किस रूप में आकर 
नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह 
राम के दर्शन पायेगा 

राम नाम के साबुन से जो 
मन का मेल छुडायेगा 
निर्मल मन के दर्पण में वह 
राम के दर्शन पायेगा 

Ram Bhagwan ke Bhakti Bhajan Song

 Song  :-Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayega

 Singer:- prem bhushan ji maharaj

 Lyrics  :-



Comments

नये भजन आप यहाँ से देख सकते है

Show more

Popular posts from this blog

कृष्ण भगवान के भजन लिरिक्स - Krishna Bhajan Lyrics

माता रानी के भजन लिरिक्स - Mata Rani Bhajan List - नवरात्रि स्पेशल देवी भजन लिस्ट

गणेश जी के भजन लिरिक्स - Ganesh Ji ke Bhajan Lyrics ( Ganpati Ji Ke bhajan lyrics ) Bhajan List