आदमी मुसाफिर है आता है जाता है भजन - Aadmi Musafir Hai Aata hai jata Hai Bhajan lyrics

आदमी मुसाफिर है -Aadmi Musafir Hai

आदमी मुसाफिर है आता है जाता है
आते जाते रस्ते में यादे छोड़ जाता है

झोका हवा का पानी का रेला
मेले में रह जाये जो अकेला
फिर वो अकेला ही रह जाता है
आदमी मुसाफिर है आता है जाता है
आते जाते रस्ते में यादे छोड़ जाता है

कब छोड़ता है ये रोग जी को
दिल भूल जाता है जब किसी को 
वो भूलकर भी याद आता है 
आदमी मुसाफिर है आता है जाता है
आते जाते रस्ते में यादे छोड़ जाता है

गुरुदेव के भजन यहा पर देख सकते है


Aadmi Musafir Hai Aata hai jata Hai Bhajan lyrics in Hindi 




Comments

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics