जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे - Janam Anmol Re Jahar Mat Ghol Re

जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे 

ये देश बेगाना है छोड़ इसे जाना 
आँख जरा खोल रे जहर मत घोल रे 
जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे 

है छोटी जिंदगानी करे काहे मनमानी 
तू मीठा मीठा बोल रे जहर मत घोल रे 
जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे 

समय चला जायेगा बड़ा पछतायेगा 
मोह में मत तोल रे जहर मत घोल रे 
जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे 

तेरी सुन्दर काया देख क्यों इतराया 
ना माँटी मोल  रे जहर मत घोल रे 
जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे 

माया से नाता तोड़ दे घमंड अब छोड़ दे 
बजाके अब ढोल रे जहर मत घोल रे 
जनम अनमोल रे जहर मत घोल रे 
गुरुदेव के भजन यहा पर देख सकते है

 Janam Anmol Re Jahar Mat Ghol Re Bhajan Lyrics In Hindi






Comments

Popular posts from this blog

गणेश जी के भजन -Ganesh Ji ke Bhajan

शिव जी के भजन - Shiv Ji ke Bhajan

विट्ठलाचे अभंग मराठी लिरिक्स - Vitthalache Abhang Marathi lyrics